Mp Madhya Pradesh Lawyer In Jail After Judge Says That His Birthday Message Was Indecent Bhopal News – जज को जन्मदिन की ‘बधाई’ देने वाले वकील को हुई जेल, ई-मेल पर भेजा था ‘फोटो’ और ‘संदेश’

मध्य प्रदेश: जज को जन्मदिन की बधाई देने के आरोप में वकील को हुई जेल
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

मध्यप्रदेश के रतलाम में एक वकील नौ फरवरी से जेल में बंद है और उस पर आरोप है कि 28 जनवरी को कथित तौर पर प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट (जेएमएफसी) को देर रात 1.11 बजे ई-मेल के जरिए जन्मदिन की बधाई दी और इसके बाद स्पीड पोस्ट भी किया। 

आरोपी वकील पर आईटी एक्ट समेत कई मामले दर्ज किए गए हैं। पुलिस की ओर से दर्ज की गई शिकायत के मुताबिक, आरोपी विजय सिंह यादव (37 साल) ने न्यायिक मजिस्ट्रेट की इजाजत के बिना उनकी फेसबुक से एक फोटो डाउनलोड की और जन्मदिन की बधाई के तौर पर उन्हें ई-मेल कर दी। इतना ही नहीं इस ई-मेल में आरोपी वकील ने एक अभद्र संदेश भी लिखा था। 

स्टेशन रोड पुलिस स्टेशन में आरोपी वकील के खिलाफ आठ फरवरी को एफआईआर दर्ज की गई है। रतलाम जिला कोर्ट के सिस्टम अधिकारी महेंद्र सिंह चौहान ने पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज कराई। आरोपी वकील के खिलाफ धोखाधड़ी, जालसाजी और प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से जालसाजी और आईटी एक्ट की धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए हैं। 
 
पुलिस में दर्ज शिकायत में बताया गया है कि यादव ने महिला न्यायिक मजिस्ट्रेट को स्पीड पोस्ट के जरिए जन्मदिन की बधाई भेजी थीं। यादव के भाई जय ने बताया कि उसके भाई विजय सिंह यादव चार बच्चों का पिता है और उसे उसके घर से गिरफ्तार किया गया है। 

जय ने बताया कि यादव खुद अपना केस लड़ रहा है। गिरफ्तारी के चार दिन बाद 13 फरवरी को निचली अदालत ने विजय सिंह यादव की जमानत याचिका खारिज कर दी। इसके बाद आरोपी वकील के घरवालों ने मध्यप्रदेश हाईकोर्ट की इंदौर बेंच का दरवाजा खटखटाया। तीन मार्च को विजय सिंह यादव की जमानत पर सुनवाई होनी है। 

जमानत याचिका में, विजय सिंह यादव ने खुद से मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने जेएमएफसी के खिलाफ एक अलग निजी शिकायत दर्ज की है। वकील ने शिकायत में दावा किया है कि उसने सामाजिक कार्यकर्ता और जय कुल देवी सेवा समिति के अध्यक्ष के तौर पर जन्मदिन की बधाई दी थी और इसलिए उसने गूगल से फोटो डाउनलोड की थी और क्रिएटिव डिजाइनर के तौर पर उसका इस्तेमाल किया था। 

मध्यप्रदेश के रतलाम में एक वकील नौ फरवरी से जेल में बंद है और उस पर आरोप है कि 28 जनवरी को कथित तौर पर प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट (जेएमएफसी) को देर रात 1.11 बजे ई-मेल के जरिए जन्मदिन की बधाई दी और इसके बाद स्पीड पोस्ट भी किया। 

आरोपी वकील पर आईटी एक्ट समेत कई मामले दर्ज किए गए हैं। पुलिस की ओर से दर्ज की गई शिकायत के मुताबिक, आरोपी विजय सिंह यादव (37 साल) ने न्यायिक मजिस्ट्रेट की इजाजत के बिना उनकी फेसबुक से एक फोटो डाउनलोड की और जन्मदिन की बधाई के तौर पर उन्हें ई-मेल कर दी। इतना ही नहीं इस ई-मेल में आरोपी वकील ने एक अभद्र संदेश भी लिखा था। 

स्टेशन रोड पुलिस स्टेशन में आरोपी वकील के खिलाफ आठ फरवरी को एफआईआर दर्ज की गई है। रतलाम जिला कोर्ट के सिस्टम अधिकारी महेंद्र सिंह चौहान ने पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज कराई। आरोपी वकील के खिलाफ धोखाधड़ी, जालसाजी और प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से जालसाजी और आईटी एक्ट की धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए हैं। 

 

पुलिस में दर्ज शिकायत में बताया गया है कि यादव ने महिला न्यायिक मजिस्ट्रेट को स्पीड पोस्ट के जरिए जन्मदिन की बधाई भेजी थीं। यादव के भाई जय ने बताया कि उसके भाई विजय सिंह यादव चार बच्चों का पिता है और उसे उसके घर से गिरफ्तार किया गया है। 

जय ने बताया कि यादव खुद अपना केस लड़ रहा है। गिरफ्तारी के चार दिन बाद 13 फरवरी को निचली अदालत ने विजय सिंह यादव की जमानत याचिका खारिज कर दी। इसके बाद आरोपी वकील के घरवालों ने मध्यप्रदेश हाईकोर्ट की इंदौर बेंच का दरवाजा खटखटाया। तीन मार्च को विजय सिंह यादव की जमानत पर सुनवाई होनी है। 

जमानत याचिका में, विजय सिंह यादव ने खुद से मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने जेएमएफसी के खिलाफ एक अलग निजी शिकायत दर्ज की है। वकील ने शिकायत में दावा किया है कि उसने सामाजिक कार्यकर्ता और जय कुल देवी सेवा समिति के अध्यक्ष के तौर पर जन्मदिन की बधाई दी थी और इसलिए उसने गूगल से फोटो डाउनलोड की थी और क्रिएटिव डिजाइनर के तौर पर उसका इस्तेमाल किया था। 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *